UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question pdf

UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question Answer PDF, Hello Friends आज मै आप के लिये ग्राम विकास अधिकारी और रेलवे पुलिस के वो सभी प्रश्न उत्तर ले कर आया हु जो की कई बार पूछे जाते है और हर साल दोहरे जाते है. तो आज आप UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question Answer PDF हमारे इस pdf बुक को अपने फोन मै डाउनलोड करे

इन्हें भी देखे:- CSAT General Studies IAS Prelims 22 Years Solved Paper Download

इन्हें भी देखे:- ग्राम विकास अधिकारी VDO UPSSSC General Hindi Notes Pdf Download

UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question Answer PDF की जादा से जादा QUESTION भी पूछे जाते है तो आप सभी स्टूडेंट जो सरकारी नौकरी की तयारी मै लगे है वो मेरे इस UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question Answer PDF की बुक को जो की टॉपिक वाइज है जरुर अपने मोबाइल पर डाउनलोड कर के पढ़े| फ्रेंड्स अगर आप BANK, SSC, RAILWAY, POLICE, UP POLICE RAILWAY, RAILWAY GOURP D, RAILWAY POLICE, RPF, BSF CISF ASI UPSSSC, UPPSC UPSC , IAS PCS, KEE की तयारी में लगे है तो हमारे Website  www.sarkarijobtips.com को  bookmark Kare 

UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question pdf

  1. प्राचीन काल के अवशोषों के अध्ययन को कहते है।पुरातत्व वि़ज्ञान 
  2. मानव का पशुओं को पालनें की बजाएं उनका शिकार करतें थे, इसलिए उन्हें हम कहतें है।-खादय -संग्राहक 
  3. मानव ने जब पौधे उगाने और पशु पालने के तरीके खोज निकाले। उस अवस्था वाले मानव को हम कहते है  – ‘खाद्य -उत्पादक’ 
  4. खाद्य-संग्राहक से खाद्य -उत्पादक तक की अवस्था तक पहुँचने मे आदमी को करीब कितने साललगे- 3,00,000
  5. नर्मदा की घाटी में घूमों और जमीन में गौर से देखो तो यदा-कदा आदिमानव का ऐसा कोई औजार तुम्हारे हाथ लग सकता है। पुरातत्ववेन्ता इन औजारो को कहते है-अश्मोपकरण
  6. स्थिर जीवन का आंरम्भ-कुछ नई खोजो के साथ आदमी का रहन-सहन भी बदल गया। इनमें सबसे महत्वपूर्ण खोज थी-पौधे उगाना और अन्न पैदा करना 
  7. औजारों की अवस्था के अनुसार “पाषाण युग” को कितने अवस्थाओं में बाँटा गया-तीन
  8. पाषाण युग को तीनअवस्थाओं में बाँटा गया और  उनके औजार इस प्रकार  है – 
  9. पुरापाषाण युग के औजार– 
    1. मिट्टी -नुमा औजार, जिनका गँडासे की तरह इस्तेमाल होता था, जिनमें काटने के लिये तेेजधार बनाई जाती थी । 
    2. B. हाथ की कुल्हाड़ी अनेक कार्यो मेें इस्तेमाल होने वाला यह औजार आमतौर पर नाशपाती के आकार का होता था और इसके दोनो और लंबी धारे होती थी ।
    3.  चीर -फाड़ का औजार – जिसमें बसूले जैसी चोडी धार होती थी। 
    4. मध्यपाषाण युग के औजार -छेद करने वाले, तीर की नोंक ,खुरचनी आदि । 
    5. उत्तरपाषाण युग के औजार -नोंकदार चंद्रकला के आकार के और खुरचने वाले औजार आदि इनमें कुछ औजारो का इस्तेमाल तेज दौड़ने वाले जानवरों को मारने के लियें होता था। इस युग में मनुष्य ने भोजन -संग्रह मेे दक्षता प्राप्त की , इसी से आगे बढकर मनुष्य ने पौधो की खेती करना शुरू किया।
  10. सर्वप्रथम किस धातु की खोेज हुयी- ताँबे।
  11. राँगा, जस्ता/सीसा मिलाने से बनी मिश्र धातु -काँसा
  12. जिस युग मे मनुष्य केवल पत्थर के औजारो का इस्तेमाल करता था उसे कहते है-पाषाणयुग(अथवा पुरापाषाण युग तथा नवपाषाण युग)
  13. जिस युग में मनुष्य ने छोटे-छोटे पत्थरो के औजारो के साथ-साथ धातु के औजारो का इस्तेमाल शुरू कर दिया उस युग को कहते है-ताम्र-पाषाण या कांस्ययुग (या ताम्रपाषाण युग)

जरुर पढ़े :- लुसेंट की सभी पुस्तके हिंदी मै ( UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question pdf )

Railway Lucent Reasoning Book 2018 Free Download PDF In Hindi

Lucent General Hindi 2018 (सामान्य हिंदी व्याकरण ) Free Book Download PDF

Latest Lucent General Knowledge 2018 Hindi download

सामान्य विज्ञान Lucent General Science Free EBook In Hindi

 

  1. सबसे पहले किसे जानवर को पालतू बनाया गया-कुत्ते ,बकरी ,भेड़ ।
  2. सबसे पुराने जिस नगर की भारतीय उप महाद्वीप मे खोज हुई,वह था-रावी नदी तट पर स्थित हड़प्पा। 
  3. दूसरे सबसे महत्वपूर्ण स्थल की खोज सिंध (वर्तमान पाकिस्तान मे है उसका नाम -मोहनजोदड़ो।
  4. सबसे पहले किस अनाज की पैदावर की गयी थी-पौधो मे गेहूँ और जौ
  5. पुरातत्ववेत्ताओं ने इन प्राचीन नगरों की सभ्यता को क्या नाम दिया-सिंधु सभ्यता
  6. अन्य स्थानोें की खुदाई करके सिंधु सभ्यता के नगरों से मिलतें -जुलते कई नएँ नगर खोज निकले है। इसलिए सिंधु घाटी सभ्यता को ओर क्या कहा जाता है।- हड़प्पा संस्कृति
  7. रोपड़ तथा राखीगढ़ी की खोज कहाँ हुई थी -पंजाब 
  8. मेहरगढ़ नगर की खोज कहाँ हुई थी-बलूचिस्तान 
  9. धौलावीरा नगर की खोज कहाँ हुई थी -कच्छ की खाड़ी में
  10. लोथल नगर की खोज कहाँ हुई थी -अहमदाबाद में 
  11. कालीबंगा नगर की खोज कहाँ हुई थी-राजस्थान में   NOTE- हड़प्पा संस्कृति समूचे सिंध तथा बलूचिस्तान मे और लगभग पूरे  पंजाब(पूर्वी और पश्चिमी ) हरियाणा , पश्चिमी , उत्तर प्रदेश, जम्मू, उत्तरी राजस्थान , गुजरात तथा उत्तरी महाराष्ट्र मे फैली हुई थी ।
  12. हड़प्पा संस्कृति का महत्व कब प्राप्त हुआ- लगभग 2500 ईसा पूर्व(आज से लगभग -4500 वर्ष पहले )
  13. हड़प्पा संस्कृति के समय इराक किस नाम से प्रसिद्ध थी-सुमेर सभ्यता
  14. धान्यागारो की इमारतें को किस रूप मे बनाया गया था-आयताकार में
  15. हड़प्पा संस्कृति का पतन हो चुका था-अब से लगभग 1500 ई0 पू के आसपास 
  16.  
  17. मोहनजोदड़ो के दुर्ग का सबसे प्रसिद्ध स्मारक कौन सा था -स्नान कुंड़
  18. मोहेंजो-दड़ो के सड़के कैसी थी-सड़के सीधी जाती थी और एक-दूसरे को समकोण मे काटती थी।
  19. हड़प्पा संस्कृति लगभग कितने वर्षो तक जीवित रही।-एक हजार
  20. ह़ड़प्पा सभ्यता मे आभूषण कैसे बने होते थे-क्वार्टस और सीप की गुरिया के बने होते थे।
  21. हड़प्पा संस्कृति में हथियार किस धातु के बने मिले-ताँबे और काँसे के औजार
  22. मोहेंजोदड़ो मे स्टियटाइट या पत्थर की मुहरो पर किसके चित्रण मिला-मुहर के एक तरफ साँड़ या एक सींग वाला पशु या एक हाथी या वृक्ष या किसी दृश्य की आकृति मिली। NOTE:- मिस्त्र और सुमेर से प्राचीन पुस्तके मिली परंतु हड़प्पा संस्कृति के लोगो के ऐसा कोई अभिलेख नही है। जिनसे उनके शासन और धर्म के बारे मे जानकारी मिल सकें। 
  23. हड़प्पा संस्कृति के लोगो का पतन कैसे हुआ-निरन्तर आने वाली बाढ़ो के कारण ये नगर नष्ट हो गए हो अथवा किसी महामारी या रोग ने लोगों का सफाया कर दिया है

UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question Answer PDF

Latest current Affairs For Up police Upsi Railway Bank ssc 

करंट अफेयर्स 2017-2018

इन्हें भी देखे सामान्य ज्ञान के महत्वपूर्ण पुस्तक ( UPSSSC VDO Railway RPF History Important Question Answer PDF)

 ध्यान दे :–  दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या eBook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए।

 ध्यान दे :–  नीचे दिए गए Facebook, Whatsapp बटन के माध्यम से आप इसे Share भी कर सकते है, यदि आपको इसी तरह की PDF रोज चाहिये तो आप नीचें दिए गये बेल आइकॉन पे click कर डेली PDF आसानी से प्राप्त कर सकते है | 

 Disclaimer:-  SarkariJobTips.com केवल Educational Purposeशिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गई है, तथा इस पर उपलब्ध कुछ पुस्तक ,Notes,PDF Material,Books का मालिक नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material प्रदान करते हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमें Mail करें।

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!